Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   Jobs   Blog

ब्रेस्‍ट मिल्‍क को बढ़ाने मे मदद करता है ये आयुर्वेदिक नुस्‍खा

KayaWell Icon

यूं तो ब्रेस्‍ट फीडिंग मां के लिए एक अद्भुत अहसास है, जिससे मां और बच्‍चे का रिश्‍ता मजबूत होता है। लेकिन यह सेहत के लिहाज से भी मां और नवजात दोनों के लिए फायदेमंद होता है। बेस्‍टफीडिंग से न केवल शिशु का इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है बल्कि प्रेंग्‍नेसी के बाद मां के बढ़े हुए वजन को कम करने में भी मदद मिलती है। नवजात के जन्‍म के 6 महीने तक पोषण का एक मात्र साधन ब्रेस्‍ट फीडिंग होता है, लेकिन ध्‍यान रहें कि नवजात को भरपूर मात्रा में मिल्‍क मिल सकें। 

शिशु के लिए मां का दूध किसी अमृत से कम नहीं होता। लेकिन कई महिलाओं को डिलीवरी के बाद ब्रेस्‍ट से दूध कम या बिल्‍कुल नहीं निकलता है, ऐसा हार्मोंस की कमी, सही पोषक तत्वों की कमी, बीमारी या गर्भनिरोधक गोलियों के लम्बे समय तक सेवन के कारण होता है। जिसके चलते वह अपने बच्‍चे को ब्रेस्‍ट फीड नहीं करा पाती हैं और उनके नवजात में पोषक तत्‍वों की कमी हो जाती है। अगर आप भी डिलीवरी के बाद अपने नवजात को कम मात्रा में दूध आने के अच्‍छे से ब्रेस्‍ट फीडिंग नहीं करा पा रही हैं तो परेशान न हो क्‍योंकि आज हम आपको एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्‍खा बताने जा रहे हैं जिसके सेवन से आप ब्रेस्‍ट मिल्‍क का उत्‍पादन बढ़ा सकती है।

यूं तो ब्रेस्‍ट फीडिंग मां के लिए एक अद्भुत अहसास है, जिससे मां और बच्‍चे का रिश्‍ता मजबूत होता है। लेकिन यह सेहत के लिहाज से भी मां और नवजात दोनों के लिए फायदेमंद होता है। बेस्‍टफीडिंग से न केवल शिशु का इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है बल्कि प्रेंग्‍नेसी के बाद मां के बढ़े हुए वजन को कम करने में भी मदद मिलती है। नवजात के जन्‍म के 6 महीने तक पोषण का एक मात्र साधन ब्रेस्‍ट फीडिंग होता है, लेकिन ध्‍यान रहें कि नवजात को भरपूर मात्रा में मिल्‍क मिल सकें। 

शिशु के लिए मां का दूध किसी अमृत से कम नहीं होता। लेकिन कई महिलाओं को डिलीवरी के बाद ब्रेस्‍ट से दूध कम या बिल्‍कुल नहीं निकलता है, ऐसा हार्मोंस की कमी, सही पोषक तत्वों की कमी, बीमारी या गर्भनिरोधक गोलियों के लम्बे समय तक सेवन के कारण होता है। जिसके चलते वह अपने बच्‍चे को ब्रेस्‍ट फीड नहीं करा पाती हैं और उनके नवजात में पोषक तत्‍वों की कमी हो जाती है। अगर आप भी डिलीवरी के बाद अपने नवजात को कम मात्रा में दूध आने के अच्‍छे से ब्रेस्‍ट फीडिंग नहीं करा पा रही हैं तो परेशान न हो क्‍योंकि आज हम आपको एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्‍खा बताने जा रहे हैं जिसके सेवन से आप ब्रेस्‍ट मिल्‍क का उत्‍पादन बढ़ा सकती है।

ब्रेस्‍ट मिल्‍क को बढ़ता है जीरा

जीरा ब्रेस्‍ट मिल्‍क के उत्पादन को बढ़ाने का काम करता है। इसके साथ यह पाचन तंत्र को सही कर कब्ज, एसिडिटी और सूजन को भी कम करता है। भारतीय व्यंजनों का अभिन्न अंग जीरा कैल्शियम और राइबोफ्लेविन (विटामिन-बी) का स्रोत है। इसके अलावा इसमें आयरन की भी भरपूर मात्रा होती है, जो नई मां को एनर्जी देने का काम भी करती है। साथ ही दूध में भी कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा ज्‍यादा होती है। जो दूध बढ़ाने में सहायक होती है। आइए जानें इस नुस्‍खे को कैसे बनाया या इस्‍तेमाल किया जाता है।


सामग्री की जरूरत

भुना जीरा- आधा चम्‍मच

दूध - 1 गिलास

बनाने की तरीका


सबसे पहले जीरा लेकर उसे अच्‍छी तरह भून लें।

फिर दूध गर्म करके इसमें भूना जीरा मिला लें।

इसे आपको सुबह और शाम को पीना है।

इस्‍तेमाल का अन्‍य तरीका

एक कप पानी में एक चम्मच जीरा मिलाकर भिगोकर रख दें, एक घंटे बाद इसको छानकर पी ले, ऐसा करने से भी आपकी ब्रेस्‍ट में मिल्‍क की वृद्धि होगी। 

यह आयुर्वेदिक उपाय ब्रेस्‍ट मिल्‍क को अधिक मात्रा में बनाने में सहायक होता है। इस उपाय का सेवन नियमित रूप से करने से स्‍तनों में दूध बढ़ता है और बच्‍चे को अच्‍छा पोषण मिलता है। तो देर किस बात की अगर आप भी अभी-अभी मां बनी हैं तो आज ही ट्राई करें ये नुस्‍खा। 

Comments