CoronaVirus Updates | Confirmed Cases and Deaths | COVID-19 Symptom Checker (Click Here)
  Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   News   Jobs   Blog

पेठा की रेसिपी हृदय के साथ अन्य रोगों के लिए है, बहुत फायदेमंद

KayaWell Icon

अपने औषधीय गुणों के कारण सफेद पेठा बहुत ही लोकप्रिय हो चुका है। इस औषधीय फल के गुणों में मिठास, कसैला (styptic), उपचय (anabolic) शीतलन, पेट साफ करने वाले गुण (Laxative), मूत्रवर्धक, कामोदृदीपक, एंटी-मर्कुरियल, एंटी-आवधिक आदि होते हैं जो मधुमेह, मोटापे आदि के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसमें कैलोरी बहुत ही कम होती है जिससे मोटापे को कम करने में मदद मिलती है। गर्मी के मौसम में इस फल और इससे बने उत्‍पादों का सेवन करने से यह शीतलता प्रदान करता है। पेठा फल के बीजों में भी लाभकारी गुण होते हैं। इसके बीज से तेल निकाला जाता है इसके अलावा इनका उपयोग मिठाइयों को बनाने और सजाने के लिए भी किया जाता है। आइए विस्‍तार से जाने पेठा के और फायदे  क्‍या हैं।


अपने औषधीय गुणों के कारण सफेद पेठा बहुत ही लोकप्रिय हो चुका है। इस औषधीय फल के गुणों में मिठास, कसैला (styptic), उपचय (anabolic) शीतलन, पेट साफ करने वाले गुण (Laxative), मूत्रवर्धक, कामोदृदीपक, एंटी-मर्कुरियल, एंटी-आवधिक आदि होते हैं जो मधुमेह, मोटापे आदि के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसमें कैलोरी बहुत ही कम होती है जिससे मोटापे को कम करने में मदद मिलती है। गर्मी के मौसम में इस फल और इससे बने उत्‍पादों का सेवन करने से यह शीतलता प्रदान करता है। पेठा फल के बीजों में भी लाभकारी गुण होते हैं। इसके बीज से तेल निकाला जाता है इसके अलावा इनका उपयोग मिठाइयों को बनाने और सजाने के लिए भी किया जाता है। आइए विस्‍तार से जाने पेठा के और फायदे  क्‍या हैं।


§ पेठा के फायदे हृदय की रक्षा करे –

पोटेशियम और विटामिन सी की अच्‍छी मात्रा पेठा फल में पाई जाती है। इन तत्‍वों की पर्याप्‍त मात्रा के साथ ही इसमें अन्‍य पोषक तत्‍व भी होते हैं जो कार्डियोवैस्‍कुलर स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। पोटेशियम एक वासोडिलेटर के रूप में काम करता है और रक्‍तवाहिकाओं और नसों में तनाव को कम करके रक्‍तचाप को कम करने में मदद करता है। रक्‍तचाप नियंत्रित रहने से शरीर में उचित रक्‍त प्रवाह बना रहता है। इस तरह यह हृदय समस्‍याओं और कोरोनरी हृदय रोग के खतरे को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन सी दिल के दौरे की संभावनाओं को भी कम करने के लिए जाना जाता है।


§ पेठा खाने के फायदे एसिडिटी के इलाज में – 

यदि आपको एसिडिटी की समस्या है तो पेठा के रस को तैयार करें और अम्लता से राहत पाने के लिए थोड़ी मात्रा में हींग मिलाने के बाद इसका खाली पेट का सेवन करें। आप शाम को ऐसे पेठा ड्रिंक का उपभोग कर सकते हैं, इसका मतलब है कि आपके शरीर को ठीक से एसिडिटी दूर करने के लिए दिन में दो बार इसका सेवन करें।

खूबसूरती के लिए मेकअप ही नहीं अच्छी डाइट भी है जरूरी

§ पेठा के गुण नाक से खून बहने से रोकने में – 

यदि कोई व्यक्ति नाक से खून बहने की समास्या से परेशान है तो उसके लिए पेठा का रस बहुत अच्छा होता है। नाक से खून बहने से राहत पाने के लिए व्यक्ति पेठे की मिठाई और रस दोनों का उपभोग कर सकता है।


§ पेठा के औषधीय गुण बवासीर के लिए –

यदि आप बवासीर की समस्‍या से ग्रसित हैं तो  आपके लिए पेठा का इस्‍तेमाल बहुत फायदेमंद हो सकता है। बवासीर का उपचार करने के लिए आप पेठा और इसके साथ अन्‍य औषधीय गुणों वाले खाद्य पदार्थों का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको पेठा की 2 चम्‍मच लुग्‍दी, 1 चम्‍मच गुड़ का चूरा, 1 चम्‍मच तिल के बीज और ½ चम्‍मच हरीतकी (टर्मिनलिया चेबुला) की लुग्‍दी लें। गुड़ और तिल के बीजों को मिलाकर एक पेस्‍ट बनाएं और इसमें हरीतकी मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में दो बार दूध के साथ सेवन करें। इस मिश्रण का सेवन तब तक करें जब तक की आपको लाभ प्राप्‍त नहीं होता है। यह विशेष रूप से मल त्‍याग के साथ खून बहने की समस्‍या को दूर करने में मदद करता है। यदि आप बवासीर के प्रभाव को कम करना चाहते हैं तो पेठा का उपयोग कर सकते हैं।


§ सफेद पेठा जूस के फायदे वजन कम करे – 

यदि आप वजन नियंत्रण के उपाय ढूंढ रहे हैं तो पेठा आपकी मदद कर सकता है। इसके लिए आप पेठा के जूस का सेवन कर सकते हैं। इसकी फाइबर सामग्री और कम कैलोरी आपके वजन को कम करने में मदद कर सकती है। इसका सेवन करने से यह आपकी भूख को संतुष्‍ट रखता है, जिसके कारण आप के बार-बार खाने की इच्‍छा में कमी आती है, यह भी आपके वजन को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है। पेठा में मौजूद आवश्‍यक पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ मांसपेशियों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करते है। जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

खूबसूरती के लिए मेकअप ही नहीं अच्छी डाइट भी है जरूरी

§ सफेद पेठे का जूस बनाने की विधि –

    सफेद पेठा का रस बनाने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स अपनाये जा सकते हैं:


•  तजा सफेद पेठा लें और ताजे पानी से धो लें

•  अगर आप एक व्यक्ति के लिए जूस बना रहें हैं तो 100 से 200 ग्राम पेठा पर्याप्त है

•  इसे छीलने और उसके टुकड़े बनाने के पेठा को काट लें

•  इसके बाद सभी टुकड़ों को एक juicer में आधे कप पानी के साथ डाल दें

•  जूसर को चालू करें और रस को फ़िल्टर करें

•  पेठा के रस में चीनी या नमक न जोड़ें, इसे ऐसे ही उपयोंग करें यदि आपको इसका पूरा लाभ प्राप्त करना है

•  पेठे का जूस पीने के एक घंटे पहले और पेठे का जूस लेने के दो घंटे बाद तक कुछ न लें।

•  अगर किसी व्यक्ति को कोई बीमारी नहीं है तो भी एक व्यक्ति मजबूत रहने और हमेशा फिट रहने के लिए पेठे का जूस पी सकता है।

•  यह सभी विकारों और बीमारियों से आपको सुरक्षित रखने का अच्छा विकल्प होता है।

Acidity
Diabetes: Type I
Heart Attack (Warning Signs)
Heart Disease
Heart
Blood and Circulatory
Hemorrhoids Piles
High Blood Pressure
Nosebleed
Stress
Diet/weight Loss

Comments

Popular Lab Test Packages

KayaWell Icon