Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   Jobs   Blog

आयुर्वेद से महिलायें खुद को रखें स्‍वस्‍थ

KayaWell Icon

Women's Health and Pregnancy

आयुर्वेद से महिलायें खुद को रखें स्‍वस्‍थ

महिलाओं की कुछ स्वास्थय समस्याएं जैसे, डिसमिनोरिया (दर्दनाक अवधि), ल्यूकोरिया, रजोनिवृत्ति और गर्भावस्था, महिलाओं में अलग हो सकती है, आयुर्वेद सभी समस्याओं के इलाज के लिए अदभुत समाधान प्रस्तुत करता है, जो रजोनिवृत्ति की तरह, पीएमएस, दर्दनाक पीरियड, पीरियोडिक सूजन और फूलना या महिलाओं में होने वाली अन्य समस्याएं भी महिलाओं में अलग होती है। हालांकि इनके उपचार में आयुर्वेद पूरी तरह से सक्षम है।

डिसमिनोरियाके लिए आयुर्वेद

आयुर्वेद के अनुसार, डिसमिनोरिया वात दोष में सामान्य होती है। लेकिन साथ ही साथ,पित्त और कफ दोष भी इसका कारण हो सकते है। आयुर्वेदिक चिकित्सक एंटीपासमोडिक मसल्स को आराम देने वाली, दर्द निवारक, इमिनागोगस के साथ जड़ी बूटियां का इस्तेमाल करते है।


साइपरसः यह एक विशेष आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है,जो मासिक धर्म ऐंठन दर्द से राहत के लिएअधिक प्रभावी होती है। और दोषों के सभी प्रकार के लिए डिसमिनोरिया में इस्तेमाल की जाती है। लोहबान, गुगल अशोक जड़ी बूटी भी उपयोगी होती है।

डिसमिनोरिया के वात प्रकार में, एक रोगी कोगंभीर कोलिकी दर्द, कब्ज, सूखी त्वचा, सिर दर्द, चिंता, घबराहट उदर फैलावट और गैस हो जाती है। नम और तेल खाद्य पदार्थोंके साथ वात-विरोधी आहार लिया जाना चाहिए। हल्दी, जायफल, हींग, अदरक और चूना सार डिसमिनोरिया के इस प्रकार में प्रभावी होते है। इन जड़ी बूटियों का प्रभाव शांति देने वाली औषधि द्वारा जैसे कि सतवारी और नद्यपान, के रूप में बढते है, जोकि एक सुखद और कार्टीसॉन की तरह प्रभाव से पूर्ण होते है।

पित्त प्रकार केडिसमिनोरिया में ठंडी जड़ी बूटियां जैसे कि गोटु कोला, जेटा मैमसी, जुनून फूल और हॉप उपयोगी होती है।

कफ प्रकार केडिसमिनोरियामें, मसालेदार जड़ी बूटियां और एंटीपासमोडिक जैसे अदरक, कैलमेस, लोहबान, गुगल, दालचीनी और जायफल उपयोगी होते है।

ल्यूकोरिया के लिएआयुर्वेद: आयुर्वेद में, योनि से, सफेद द्रव का निकलने के कारण,ल्यूकोरिया ‘सफेद’ या “श्वेत प्रदर” के रूप में जाना जाता है।

 ल्यूकोरिया के लिए आयुर्वेदिक उपचार शामिल हैं

पुश्यानुगा चूर्णः यह हर्बल चूर्ण ल्यूकोरिया में बहुत लाभदायक होता है। इस पाऊडर की 3 ग्राम मात्रा दिन में दो बार एक कप दूध या चावल के पानी के साथ लें।

अशोकारिष्टः यह हर्बल उपचार भी ल्यूकोरिया में बहुत प्रभावी होता है। यह उपचार दिन में दो बार पुश्यानुगा चूरण के साथ,पानी के साथ लिया जाता है।

चन्द्रप्रभा के मिश्रण की एक खुराक (500मिलीग्राम),पुश्यानुगा चूर्ण (1ग्राम),प्रदरंतका लुह (250 मिलीग्राम), तिशा घास की जड़ के काढ़े के साथ रोजाना लें।

यशादा भस्म (125 मिलीग्राम), कुकुतनंदा त्वाका भस्म (250मिलीग्राम), आंवला चूर्ण (500 मिलीग्राम), सुबह और शाम शहद के साथ नियमित रूप से लिया जाना चाहिए।

आहार: मांसाहारी भोजन जैसे मछली, चिकन, अंडे के सेवन से कुछ दिन तक बचें। ताजा हरी सब्जियां, दूध और घी की प्रचुरता लें।

 

सावधानी

आयुर्वेदिक उपचार से महिलाओं में होने वाली बहुत सी समस्याओं का इलाज किया जा सकता है। यदि आप अपनी समस्या का उपचार खुद करते है और इष्टतम प्रतिक्रिया समय की उचित राशि के भीतर ही दिखाई देती है। उपाय के बदलाव आवश्यक होते हैं। सलाह के लिए एक आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें।


 

Women's Health and Pregnancy

Comments