CoronaVirus Updates | Confirmed Cases and Deaths | COVID-19 Symptom Checker (Click Here)
  Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   News   Jobs   Blog

जायफल के अदभुत फायदे

KayaWell Icon

जायफल के अदभुत फायदे
जायफल के फायदे और नुकसान
By Research Staff
Acne
Back Ache
Cold Sores
Common Cold
Diarrhea
Headache
Hiccups

रसोई का मसाला जायफल गुणकारी औषधि भी है.आयुर्वेद में जायफल को वात एवं कफ नाशक बताया गया है। आमाशय के लिए उत्तेजक होने से आमाशय में पाचक रस बढ़ता है, जिससे भूख लगती है। आंतों में पहुंचकर वहां से गैस हटाता है। ज्यादा मात्रा में यह मादक प्रभाव करता है। इसका प्रभाव मस्तिष्क पर कपूर के समान होता है, जिससे चक्कर आना, प्रलाप आदि लक्षण प्रकट होते हैं। इससे कई बीमारियों में लाभ मिलता है तथा सौन्दर्य सम्बन्धी कई समस्याओं से भी निजात मिलती है।

1. हिचकी:
★ तुलसी के रस में जायफल (jaiphal)को घिसकर एक चम्मच की मात्रा में 3 बार खायें। इससे हिचकी बंद हो जाती है।
★ चावल के धुले पानी में जायफल को घिसकर पीने से हिचकी व उल्टी बंद हो जाती है।
2. सिर दर्द:
★ कच्चे दूध में जायफल(jaiphal) घिसकर सिर में लगाएं। इससे बहुत आराम मिलेगा।
★ सिर में दर्द होने पर जायफल को पानी में घिसकर माथे पर लेप की तरह लगाने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है।
3. मुंह के छाले:
★ जायफल (jaiphal)के काढे़ से 3-4 बार गरारें करें। इससे मुंह के छाले नष्ट हो जाते हैं।
★ जायफल के रस में पानी मिलाकर कुल्ले करने से छाले ठीक हो जाते हैं।
4. बच्चों के दस्त: जायफल को पानी में घिसकर आधा-आधा चम्मच 2-3 बार पिलाएं। इससे बच्चों का दस्त बंद हो जाता है।
5. दस्त:
★ जायफल(jaiphal) को पानी में घिसकर दिन में खुराक के रूप में पीने से सर्दी लगने से बच्चों को होने वाले दस्त में लाभ होता है।
★ जायफल में गुड़ को मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बनाकर 1-1 गोली को 2-2 घंटे के बाद खाने से कब्ज और बदहजमी के कारण होने वाले दस्त दूर होता है।
★ जायफल को पानी में घिस लें, फिर उसमें पिसी हुई सौंफ को अच्छी तरह मिला लें। इसे पानी के साथ छोटे बच्चों को 1 दिन में 2 से 3 बार खुराक के रूप में देने से अतिसार यानी टट्टी के लगातार आने में रुकावट होती है।
★ 1 ग्राम जायफल के चूर्ण को आधे कप पानी के साथ दिन में सुबह और शाम पीयें इससे पेट का फूलना, पेट में दर्द और पतले दस्त बंद हो जाते हैं।
★ जायफल 1 ग्राम, केशर 1 ग्राम और तज 1 ग्राम, छोटी इलायची 480 मिलीग्राम, लौंग 480 मिलीग्राम, खड़िया मिट्ठी 5 ग्राम और चीनी (शक्कर) 9 ग्राम की मात्रा में मिलाकर चूर्ण बनाकर रख लें, इस चूर्ण को चाटने से अतिसार (दस्त) समाप्त हो जाता है।
★ जायफल को भूनकर 240 मिलीग्राम से लेकर 960 मिलीग्राम की मात्रा में लेकर सेवन कराने से लाभ होता है। ध्यान रहे कि इससे अधिक मात्रा में लेने से चक्कर और बेहोशी (सन्यास) भी हो सकती है।
★ जायफल के बारीक चूर्ण को देशी घी और चीनी के साथ चटाने से आमातिसार में लाभ होता है।
★ जायफल को घिसकर चाटने से बच्चों के दांत के निकलते समय होने वाले दस्त में आराम मिलता है।
★ जायफल के पिसे हुए चूर्ण को लगभग 500 मिलीग्राम से लेकर 1 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से अतिसार समाप्त हो जाता है।
6. नींद न आना:
★ गाय के घी में जायफल घिसकर पैर के तलुवों और आंखों की पलकों पर लगाएं, इससे नींद अच्छी आएगी।
★ जायफल को जल या घी में घिसकर पलकों पर लेप की तरह लगाने से नींद जल्दी आ जाती है।
7. सर्दी व जुकाम:
★ जायफल को पानी में घिसकर लेप बना लें। इस लेप को नाक पर, नथुनों पर और छाती पर मलने से जल्दी आराम मिलेगा। साथ ही जायफल का चूर्ण सोंठ के चूरन के बराबर की मात्रा में मिलाकर एक चौथाई चम्मच 2 बार खिलायें। इससे सर्दी और जुकाम का रोग दूर हो जाता है।
★ जायफल पिसा हुआ एक चुटकी की मात्रा में लेकर दूध में मिलाकर देने से सर्दी का असर ठीक हो जाता है। इसे सर्दी में सेवन करने से सर्दी नहीं लगती है
8. मुंहासे: कच्चे दूध में जायफल घिसकर रोजाना सुबह और रात में पूरे चेहरे पर लगाएं। इससे मुंहासें के अलावा चेहरे के काले धब्बे भी दूर होंगे और चेहरा भी निखर जायेगा।
9. गैस, कब्ज की तकलीफ: नींबू के रस में जायफल घिसकर 2 चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम भोजन के बाद सेवन करने से गैस, कब्ज की तकलीफ दूर होगी।
10. मुंह की दुर्गन्ध और फीकापन:
★ जायफल के छोटे-छोटे टुकड़ों को दिन में 2-3 बार चूसते रहने से मुंह की दुर्गन्ध और फीकापन दूर हो जाता है।
★ जायफल के टुकड़े 240 से 360 मिलीग्राम की मात्रा में चबाने से मुंह की दुर्गन्ध दूर होती है। इसके सेवन से चक्कर एवं मुर्च्छा (बेहोशी) के लक्षण प्रकट हो सकते हैं।
11. दांत दर्द: रूई से जायफल का तेल दांत की जड़ में लगाने और खाली भाग में फोहा भर कर दबाए रखने से दर्द में आराम मिलेगा।
12. कमर दर्द:
★ पान में जायफल का टुकड़ा डालकर खाने और जायफल को पानी में घिसकर बने लेप को गर्म-गर्म ही कमर में लगाकर मालिश करें। इससे कमर का दर्द समाप्त हो जाता है।
★ जायफल को घिसकर रात में कमर पर इसका लेप करने से कमर दर्द मिट जाता है।
★ जायफल को पानी के साथ सिल पर घिस लें। फिर उसे 200 मिलीलीटर तिल्ली के तेल में अच्छी तरह गर्म करें। ठण्डा होने पर कमर की मालिश करें। इससे कमर दर्द से छुटकारा मिलता है
13. बच्चों के दूध न पचने पर: मां का दूध छुड़ाकर ऊपरी दूध पिलाने पर यदि शिशु को न पच रहा हो, तो दूध में एक जायफल डालकर खूब उबालें। फिर ठण्डा करके पिलाएं। इससे दूध आसानी से हजम होगा और मल बंधा हुआ दुर्गन्ध रहित होगा।
14. भूख न लगना: शहद के साथ एक ग्राम जायफल का चूरन सुबह-शाम खिलाएं। इससे भूख का लगना बंद हो जाता है।
15. जोड़ों का दर्द: एक भाग जायफल का तेल और चार भाग सरसों का तेल मिलाकर जोड़ों के दर्द, सूजन, मोच पर 2-3 बार मालिश करें। इससे आराम मिलेगा।
16. नपुंसकता और शीघ्रपतन:
★ जायफल का चूर्ण एक चौथाई चम्मच सुबह-शाम शहद के साथ खायें और इसका तेल सरसों के तेल में मिलाकर शिश्न (लिंग) पर मलें। इससे नपुंसकता और शीघ्रपतन का रोग समाप्त हो जाता है।
★ जायफल का चूर्ण आधा ग्राम शाम को पानी के साथ खाने से 6 हफ्ते में ही धातु (वीर्य) की कमी और मैथुन की कमजोरी दूर होगी।
17. दुर्बलता: जायफल और जावित्री 10-10 ग्राम और अश्वगन्धा 50 ग्राम मिलाकर पीस लें। एक-एक चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ नियमित लें।
18. घाव: जायफल के तेल का मरहम बनाकर घाव पर लगाएं। इससे घाव में लाभ पहुंचेगा।
19. दांत के कीडे़: जायफल के तेल को दान्तों के नीचे रखने से दांत के कीड़े मरते हैं और दर्द भी खत्म हो जाता है।
20. आंख आना: जायफल को पीसकर दूध में मिलाकर आंखों में सुबह और शाम लगाने से लाभ मिलता है।
21. दमा:
★ लगभग एक ग्राम की मात्रा में जातिफलादि के चूर्ण को एक ग्राम पानी के साथ सुबह-शाम के समय लेने से दमा ठीक हो जाता है।
★ एक ग्राम जायफल और एक ग्राम लौंग के चूर्ण में 3 ग्राम शहद और एक रत्ती बंगभस्म मिलाकर खाने से श्वास रोग में लाभ मिलता है।
22. खांसी: जायफल, पुष्कर मूल, कालीमिर्च, पीपल सभी को बराबर मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण तैयार कर लें, फिर इसमें से 3-3 ग्राम चूर्ण सुबह-शाम शहद के साथ सेवन करने से खांसी दूर हो जाती है।
23. अफारा (गैस का बनना): जायफल का चूर्ण, सोंठ का चूर्ण और जीरे को पीसकर चूर्ण बना लें। इस बने चूर्ण को भोजन करने से पहले पानी के साथ लेने से आध्मान (अफारा, गैस) नहीं होता है।
24. गर्भधारण: जायफल और मिश्री 50-50 ग्राम की मात्रा में पीसकर चूर्ण तैयार कर लें। इसे छह ग्राम की मात्रा में माहवारी के बाद सेवन करना चाहिए। आहार में चावल और दूध का सेवन करें। इससे गर्भधारण हो जाएगा।
25. वमन (उल्टी): जायफल को पानी के साथ पीसकर पीने से उल्टी आना बंद हो जाती है।
26. पेट की गैस बनना:
★ जायफल और सोंठ का चूर्ण बना लें। इस बने चूर्ण को खाना खाने के बाद थोड़ी-सी मात्रा में रोजाना पीने से लाभ होता है।
★ जायफल को नींबू के रस में घिसकर चाटने से लाभ होता है।
27. जुकाम:7. जुकाम:
★ जायफल, सोंठ और जावित्री को एक साथ पीसकर किसी कपड़े में बांधकर सूंघने से जुकाम में आराम आता है।
★ जायफल को पानी के साथ पीसकर शहद में मिलाकर सुबह और शाम को बच्चों को चटाने से बच्चों को बार-बार होने वाला जुकाम ठीक हो जाता है।
★ जायफल और सौंठ को गाय के घी में घिसकर चटाने से बच्चों को जुकाम के कारण लगने वाले दस्त बंद होते हैं।
28. आमातिसार: 240 से 960 मिलीग्राम जायफल सुबह-शाम लेने से आमातिसार के रोगी को लाभ मिलता है। जायफल को उम्र के हिसाब लेना चाहिए।
29. कान की सूजन और गांठ: जायफल को पानी के साथ पीसकर लगाने से कान की सूजन दूर हो जाती है।
30. संग्रहणी (पेचिश): जायफल, चित्रक, सफेद चंदन, वायबिडंग, इलायची, भमसेनी कपूर, वंशलोचन, सफेद जीरा, सोंठ, कालीमिर्च, पीपल, तगर, लौंग इन सबको बराबर-बराबर मात्रा में लेकर बारीक पीस लें। फिर इसमें 500 ग्राम मिश्री को पीसकर उसमें मिला दें। इस चूर्ण में से चुटकी भर चूर्ण मट्ठा (लस्सी) के साथ खाने से संग्रहणी अतिसार में लाभ होता है।
जायफल के अधिक सेवन से घबराहट, नसों में कमजोरी, हाइपोथर्मिया, चक्कर आना और उल्टी जैसी परेशानी हो सकती है।
http://mybapuji.com
https://www.hindi100.com
Acne
Back Ache
Cold Sores
Common Cold
Diarrhea
Headache
Hiccups

Comments