Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   News

बादाम खाने के फायदे, गुण और नुकसान

KayaWell Icon

बादाम खाने के फायदे, गुण और नुकसान
By Research Staff
Anemia
Heart Disease
Heart
Blood and Circulatory
High Blood Pressure

आज हम यहाँ बादाम खाने के फायदे और नुकसान के बारे मे बात करेंगे। यह मध्य पूर्व का एक पेड़ होता है। यही नाम इस पेड़ के बीज या उसकी गिरि को भी दिया गया है। इसकी बड़े तौर पर खेती होती है। बादाम एक तरह का मेवा होता है। संस्कृत भाषा में इसे वाताद, वातवैरी आदि, हिन्दी, मराठी, गुजराती व बांग्ला में बादाम, फारसी में बदाम शोरी, बदाम तल्ख, अंग्रेजी में आलमंड और लैटिन में एमिग्ड्रेलस कम्युनीज कहते हैं आयुर्वेद में इसको बुद्धि और नसों के लिये गुणकारी बताया गया है।

भारत में यह कश्मीर का राज्य पेड़ माना जाता है। एक आउंस (२८ ग्राम) बादाम में १६० कैलोरी होती हैं, इसीलिये यह शरीर को उर्जा प्रदान करता है। लेकिन बहुत अधिक खाने पर मोटापा भी दे सकता है। इसमें निहित कुल कैलोरी का ¾ भाग वसा से मिलता है, शेष कार्बोहाईड्रेट और प्रोटीन से मिलता है। इसका ग्लाईसेमिक लोड शून्य होता है। इसमें कार्बोहाईड्रेट बहुत कम होता है। इस कारण से बादाम से बना केक या बिस्कुट, आदि मधुमेह के रोगी भी ले सकते हैं।

बादाम में वसा तीन प्रकार की होती है: एकल असंतृप्त वसीय अम्ल और बहु असंतृप्त वसीय अम्ल। यह लाभदायक वसा होती है, जो शरीर में कोलेस्टेरोल को कम करता है और हृदय रोगों की आशंका भी कम करता है। इसके अलावा दूसरा प्रकार है ओमेगा – ३ वसीय अम्ल। ये भी स्वास्थवर्धक होता है। इसमें संतृप्त वसीय अम्ल बहुत कम और कोलेस्टेरोल नहीं होता है।

फाईबर या आहारीय रेशा, यह पाचन में सहायक होता है और हृदय रोगों से बचने में भी सहायक रहता है, तथा पेट को अधिक देर तक भर कर रखता है। इस कारण कब्ज के रोगियों के लिये लाभदायक रहता है।

बादाम में सोडियम नहीं होने से उच्च रक्तचाप रोगियों के लिये भी लाभदायक रहता है। इनके अलावा पोटैशियम, विटामिन ई, लौह, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस भी होते हैं।

बादाम खाने के फायदे के कई फायदे है अगर हम सही तरह से खाये तो. 

तो क्या है बादाम खाने के सही तरीके और इसके फायदे ?

सुबह 10 बादाम रोजाना दूध के साथ खाने पर anemia (खून की कमी) दूर हो जाता है. लेकिन ऐसा कुछ हफ़्तों के लिए करना होता है|

मॉर्निंग में 10 बादाम की पेस्ट में आधा चम्मच जायफल और एक चुटकी सौंठ का डालकर दूध या पानी के साथ खाने से चिंता (anxiety), डर(फोबीया), nervousness और तनाव दूर हो जाता है|

यौन शक्ति और स्टैमिना बढ़ने के लिए 10 बादाम की पेस्ट में कुछ काली मिर्च मिलकर एक कप दूध के साथ लीजिए| इससे नपुंसकता ख़तम होगी और मर्दाना शक्ति बढ़ेगी|

मेमोरी पॉवर (याददाश्त)  बढाने के लिए 2 चम्मच मक्खन, थोड़ी सी मिश्री और 10 बादाम की पेस्ट को आपस में मिला लीजिये| इसे रोज सुबह  दूध के साथ लीजिए आपका दिमाग़ तेज होगा और मेमोरी बढ़ेगी|

chickenpox  यानि छोटी माता को जल्दी से ठीक करने के लिए 5 बादाम की पेस्ट को पानी के साथ सुबह ग्रहण करने से फायदा होता है में|

यदि लगातार खाँसी और बलगम से परेशन हो तो मिश्री में 5 बादाम की पेस्ट मिलकर दिन में 2 बार खायें, लाभ मिलेगा|

यदि आपको पीलिया (jaundice) है तो आप उसे जल्दी से ठीक कर सकते हैं, बस 6 बादाम, 3 छोटी इलाइची और 2 छुआरा (सुखी खजूर) रात में पानी में डुबो दें| सुबह इनका पेस्ट बना कर मिश्री और मक्खन के साथ खाने पर आपको फ़ायदा होगा|

ड्रिंकिंग से पहले 10 बादाम खाने से हॅंगओवर होने की संभावना कम हो जाती है|

लू लगने पर ठंडे दूध में बादाम की पेस्ट और गुलाब जल डालकर पीने से जल्द आराम मिलता है|

दूध के साथ सुबह मे कुछ बादाम खाने से डिप्रेशन, नजर का कमजोर होना, ageing, blurred vision, सर दर्द, osteoporosis, शुक्राणु की कमी, आदि प्रॉब्लम्स में फ़ायदा होता है|



बादाम में उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट , विटामिन , खनिज लवण और फाइबर पर्याप्त मात्रा में होते है। इसमें बायोटिन, विटामिन E , मैगनीज , कॉपर , विटामिन B 2 , कैल्शियम , फास्फोरस , आयरन और मैग्नेशियम प्रचुर मात्रा में होता है इसके अलावा इसमें स्वास्थ्य के लिए लाभकारी और कैंसर से बचाने वाले एंटीऑक्सीडेंट होते है। दिल के लिए लाभदायक  मोनोअनसेचूरेटेड और पोलीअनसेचूरेटेड फैटी।

एसिड बदाम में होते है। Badam से  जिंक और विटामिन B 6 भी मिलता है।

बादाम खाने का बहुत फायदे है अगर हमें  बादाम खाने के सही तरीके पता हो।
बादाम स्नैक्स के रूप में खाये जा सकते है। इन्हे पानी में भिगोकर सुबह छिलका निकाल कर खाना सर्वश्रेष्ठ तरीका माना जाता है। भीगी हुई बादाम से ठंडाई बनाई जाती है जो गर्मी के मौसम का शानदार पेय है। ठंडाई बनाने का तरीका जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।
लोग
बादाम को कई प्रकार के व्यंजन में डालकर व्यंजन की शोभा बढ़ाते है । अधिकतर पारम्परिक मिठाईयों में बादाम की कतरन  डाली जाती है ।
बादाम का दूध बना कर भी उपयोग किया जा सकता है। इसे बनाना भी बहुत आसान होता है। प्रसिद्ध माइकल जैक्सन बादाम का दूध नाश्ते में लेते थे। यह उन्हें भरपूर ताकत देता था। कुछ लोग बादाम की खीर बनाते है।
बादाम का शर्बत भी स्वादिष्ट और फायदेमंद होने के कारण लोकप्रिय है। बादाम का आटा  Almond Flour और बादाम का बटर  Almond Butter  का उपयोग करके भी बादाम का फायदा उठाया जा सकता है। किसी भी प्रकार इसे उपयोग में लें , यह फायदेमंद ही है।    
बादाम का पूरा फायदा मिले इसके लिए 20 -25 बादाम रोजाना खाई जा सकती है।

बादाम खाने का बहुत फायदे है तो कुछ नुकसान भी है

जैसे-

डाइजेस्टिव प्रॉब्लम:

अगर आप संतुलित मात्रा में बादाम का सेवन नहीं कर रहे हैं तो आपको कब्ज की शिकायत हो सकती हैं। ज्यादा बादाम कब्ज, ब्लोटिंग और पाचन संबंधी परेशानियां बढ़ा देता है। दरअसल बादाम में फाइबर की मात्रा काफी ज्यादा होती है, जिसका पाचन प्रकिया में कोई काम नहीं होता हैं। अगर आप फाइबर का डोज ज्यादा लेते हैं तो आपको पानी की मात्रा भी बढ़ा देनी चाहिए। हालांकि बादाम का संतुलित मात्रा में सेवन करना ज्यादा बेहतर विकल्प होता है।

विटामिन ई ओवरडोज:

100 ग्राम यानि आधा कप बादाम में 25 एमजी विटामिन ई होता हैं। आपके शरीर को रोजाना 15 एमजी विटामिन ई की जरूरत होती है। यानि अगर आप एक कप बादाम रोज खाते हैं तो आपके तीन दिन की डोज एक बार में ही पूरी हो जाएगी। इससे आपको डायरिया, कमजोरी और आंखों की समस्या होती है।

वजन बढ़ना:

बादाम में फैट औऱ कैलोरीज की मात्रा काफी ज्यादा होती है। 100 ग्राम बादाम में 50 ग्राम फैट होता है। हालांकि ये मोनोसैचुरेटेड फैट होता है जो दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता हैं। लेकिन अगर आप इस कैलोरी को बर्न नहीं कर रहे है, तो मोटापा दे सकती है।

विषैलापन:

ये दुष्प्रभाव कड़वा या लीथल बादाम खाने से ही होता है। वैसे तो कड़वा या लीथल बादाम का सेवन ऐंठन और दर्द के इलाज में प्रभावी होती है। हालांकि इसका ज्यादा सेवन शरीर में विषैले तत्वों को बढ़ा सकता है। इस तरह के बादाम में हाइड्रोसाइनिक एसिड होता है, जो ब्रीदिंग प्रॉब्लम, नर्वस ब्रेकडाउन, चोकिंग यहां तक कि मौत का कारण बन सकता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

Anemia
Heart Disease
Heart
Blood and Circulatory
High Blood Pressure

Comments