Home   Wellness Plan   Events  Health Tips   News

डेंगू बुखार के कारण | लक्षण | बचाव व उपचार

KayaWell Icon
KayaWell Expert

डेंगू बुखार : डेंगू बुख़ार एक संक्रमण है जो डेंगू वायरस के कारण होता है। डेंगू का इलाज समय पर करना बहुत जरुरी होता हैं  मच्छर डेंगू वायरस को संचरित करते (या फैलाते) हैं। डेंगू बुख़ार को "हड्डीतोड़ बुख़ार" के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इससे पीड़ित लोगों को इतना अधिक दर्द हो सकता है कि जैसे उनकी हड्डियां टूट गयी हों। डेंगू बुख़ार के कुछ लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, त्वचा पर चेचक जैसे लाल चकत्ते तथा मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द शामिल हैं। कुछ लोगों में डेंगू बुख़ार एक या दो ऐसे रूपों में हो सकता है जो जीवन के लिये खतरा हो सकते हैं।

  • डेंगू बुखार का प्रकार :—

  • डेंगू बुखार तीन तरह का होता है । 

    • 1. क्लासिकल (साधारण) डेंगू बुखार 
    • 2. डेंगू हैमरेजिक बुखार (DHF) 
    • 3. डेंगू शॉक सिंड्रोम (DSS) 

  • इन तीनों में से दूसरे और तीसरे तरह का डेंगू सबसे ज्यादा खतरनाक होता है। साधारण डेंगू बुखार अपने आप ठीक हो जाता है और इससे जान जाने का खतरा नहीं होता लेकिन अगर किसी को DHF या DSS है और उसका फौरन इलाज शुरू नहीं किया जाता तो जान जा सकती है। इसलिए यह पहचानना सबसे जरूरी है कि बुखार साधारण डेंगू है, DHF है या DSS है। 

  • डेंगू बुखार के 5 प्राथमिक लक्षण :—

  • डेंगी से पीड़ित लोगों में सामान्यतः निम्न लक्षण देखे जा सकते हैं:

    • 1. तेज़ बुखार होना।
    • 2. सरदर्द होना।
    • 3. उल्टी होना।
    • 4. मांपेशियों तथा हड्डियों में दर्द होना।
    • 5. त्वचा पर रैशेस

  • हालांकि ये लक्षण डेंगी की ओर इशारा कर भी सकते हैं और नहीं भी, इसलिए इस बात की सलाह दी जाती है कि इनमें से एक या अधिक लक्षणों का अनुभव होने पर जांच करवा लें। इसके  लिए आपको एक अच्छे एक्सपर्ट को तलाश ने जरुरत होगी, लेकिन  अब आपको परेशान होने की बिलकुल  जरूरत नहीं हैं , क्योंकि आपकी इस समस्या का हल भी  आपको ऑनलाइन ही मिल जायेगा | यहाँ पर आपको आपके क्षेत्र के अनुसार एक अच्छे एक्सपर्ट की लिस्ट मिल जाएगी CLICK HERE. जिनसे आप ऑनलाइन या ऑफलाइन बातचीत कर सकते हैं ।  हालांकि ये बिमारी के प्रारंभिक लक्षण होते हैं। कभी कभी लोग इन बातों को नज़रअंदाज़ करते हैं और ऐसा करने से डेंगी के गंभीर रूप विकसित हो जाते हैं, जिनके निम्न लक्षण होते हैं:

    • 1. रक्तस्त्राव 
    • 2. ब्लड प्लेटलेट्स का स्तर कम होना
    • 3. ब्लड प्लाज़मा लिकेज 
    • 4. ब्लड प्रैशर कम होना।

    • हर किसी को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि डेंगी एक खतरनाक बिमारी है, प्रारंभिक लक्षणों पर ही तत्काल चिकित्सा परामर्श लेना चाहिए | उपाय करने से सावधानी बरतना हमेशा बेहतर होता है।

    • Related Lab tests with Upto 80% Flat OFF


    • डेंगू बुखार होने के कारण :—

    • ♣ डेंगू का सबसे बड़ा कारण मच्छर है
  • ♣ घर के आस पास पानी का जमा होना
  • ♣ संक्रमित पानी व भोजन का सेवन करना
  • डेंगू को सिर्फ लक्षण देखकर नहीं समझा जा सकता है, इसके लिए डॉक्टर की सलाह पर टेस्ट करवाने चाहिए। खून की जांच के बाद ही डेंगू फीवर कन्फर्म होता है | 3-4 दिन में मरीज का शरीर डेंगू के वायरस के खिलाफ लड़ नहीं पाता है और यह बढ़ने लगता है

  • डेंगू बुखार रोकथाम के लिए आयुर्वेदिक उपचार :—

  • डेंगू के लिए घरेलू उपचार एक सहायक सिद्ध हो सकता हैं, लेकिन पूरी तरह से कभी घरेलु उपचार पर निर्भर नहीं रहा जा सकता हैं। इसके लिए पपीता के पेड़ की पत्तियों का एक्सट्रेक्ट बनाकर उपयोग में लिया जा सकता हैं। इससे शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ जाती हैं। लेकिन इस पर अब भी शोध ज़ारी हैं इसलिए वैज्ञानिक इस तरीके को पूरी तरह से उपयोगी नहीं मानते,और डेंगू के लक्षण दिखते ही डॉक्टर से सम्पर्क करने की सलाह देते हैं
Fever
Headache
Joint Pain
Muscle Pain
Dengue
Dengue Fever
DENGUE SEROLOGY LabTest

Comments

Popular Lab Test Packages

KayaWell Icon